2014-08-16 12:13:27

सेओलः सेओ-सू-मून शहीदस्थल पर सन्त पापा ने अर्पित की श्रद्धा


सेओल, 16 अगस्त सन् 2014 (सेदोक): सन्त पापा फ्राँसिस ने शनिवार, 16 अगस्त को दक्षिण कोरिया की राजधानी सेओल स्थित सेओ-सू-मून तीर्थ पर श्रद्धार्पण किया।

काथलिक कलीसिया के परमधर्मगुरु सन्त पापा फ्राँसिस इस समय दक्षिण कोरिया की पाँच दिवसीय यात्रा पर हैं। 13 अगस्त को सन्त पापा रोम से सेओल के लिये रवाना हुए थे। 14 अगस्त को उन्होंने सेओल में कोरिया की राष्ट्रपति तथा अन्य प्रशासनिक अधिकारियों से मुलाकात की थी। इसी दिन उन्होंने कोरिया के काथलिक धर्माध्यक्षों से मुलाकात कर उन्हें अपना सन्देश दिया था।

शुक्रवार, 15 अगस्त को मरियम के स्वर्गोद्ग्रहण महापर्व के उपलक्ष्य में सन्त पापा फ्राँसिस ने देजॉन शहर में छठवें एशियाई युवा दिवस के लिये एशिया के विभिन्न देशों से दक्षिण कोरिया में एकत्र लगभग एक लाख युवा प्रतिनिधियों को अपना सन्देश दिया था।

16 अगस्त को सन्त पापा फ्राँसिस सेओल स्थित परमधर्मपीठीय राजदूतावास से चार किलो मीटर की दूरी पर स्थित सेओ-सू-मून तीर्थ स्थल गये।

सेओ-सू-मून वही जगह है जहाँ 18 वीं तथा 19 वीं शताब्दियों के दौरान ख्रीस्तीयों को फ्राँसी लगा दी जाती थी।

सेओ-सू-मून तीर्थ उसी स्थल पर निर्मित है जहाँ 103 काथलिकों को मार डाला गया था। इन काथलिक शहीदों को सन्त पापा जॉन पौल द्वितीय ने सन् 1984 में सन्त घोषित कर कलीसिया में वेदी का सम्मान प्रदान किया था।

इस तीर्थ पर सन्त पापा फ्राँसिस ने पुष्पांजलि अर्पित की तथा मौन प्रार्थना में कुछ समय व्यतीत किया।








All the contents on this site are copyrighted ©.