2013-10-04 11:06:00

लामपेदूसाः लामपेदूसा त्रासदी पर सन्त पापा फ्राँसिस ने व्यक्त किया दुख


लामपेदूसा, 04 अक्टूबर सन् 2013 (सेदोक/ रॉयटर): इटली के लामपेदूसा द्वीप के निकट कम से कम 140 आप्रवासियों की मृत्यु पर सन्त पापा फ्राँसिस ने गहन शोक व्यक्त किया है तथा मृतकों के आदर में 04 अक्टूबर को शोक दिवस घोषित किया है।
दक्षिणी इटली स्थित लामपेदूसा द्वीप के समुद्री तट के निकट, गुरुवार 03 अक्टूबर को नाव में आग लग जाने के कारण कम से कम 140 आप्रवासियों की मौत हो गई तथा कई अब तक लापता हैं।
जिनिवा स्थित संयुक्त राष्ट्र रेडियो के अनुसार अफ्रीकी प्रवासियों को ले जा रही एक नाव दक्षिणी इतालवी द्वीप लामपेदूसा के निकट डूब गई जिसमें कम से कम 82 आप्रवासी मारे गये हैं। लिबिया से आनेवाली नाव पर मुख्यतः एरित्रेया के लगभग 500 आप्रवासी सवार थे। यूएनएचसीआर के अनुसार समुद्र तट से लगभग आधे किलो मीटर की दूरी पर नाव में आग लग गई जिसके कारण कम से कम 140 लोगों के प्राण चले गये। समुद्र तटीय पुलिस के अनुसार अभी भी सैकड़ों लापता हैं।
जिनिवा में यूनएचसीआर के प्रवक्ता एड्रियन एडवर्ड्स के अनुसार, तटरक्षकों ने बताया है कि नाव पर लगभग 500 लोग सवार थे किन्तु इस समय एक बड़ी संख्या में लोग लापता हैं। उनके अनुसार, इतनी बड़ी संख्या में लोगों का मारा जाना वास्तव में चौंकाने वाला तथ्य है।"
प्रवक्ता एडवर्ड्स के अनुसार, इस वर्ष जनवरी से सितम्बर माह तक, इटली और माल्टा में समुद्री रास्ते से लगभग 32,000 आप्रवासियों का आगमन हुआ है। इससे यह पता चलता है कि भूमध्य सागर का यह हिस्सा, आप्रवासियों और शरण की मांग करनेवालों के लिये, समुद्र पार करने का एक बहुत ही प्रमुख मार्ग बनता जा रहा है।"
गुरुवार की घटना इटली के तट पर इस सप्ताह की दूसरी नाव दुर्घटना थी। सोमवार को इटली में शरण मांगने के इच्छुक 13 आप्रवासी पहुँचने से पहले ही समुद्र में डूब गये थे।








All the contents on this site are copyrighted ©.