2009-05-13 17:30:43

बेथलेहेम के मेनजर स्कवायर में ख्रीस्तयाग के दौरान संत पापा का संदेश


संत पापा बेनेडिक्ट 16 वें ने बेथलेहेम नगर के मेनजर स्कवायर में ख्रीस्तयाग के दौरान प्रवचन करते हुए अपने संदेश में कहा कि बेथलेहेम आने की कृपा देने के साथ ही फिलिस्तीनी प्रदेश में विश्वासियों के साथ खड़े होने के लिए वे ईश्वर को धन्यवाद देते हैं। उन्होंने धर्माध्यक्षों, पुरोहितों धर्मसमाजियों और लोकधर्मी विश्वासियों का अभिवादन किया जो प्रतिदिन स्थानीय कलीसिया को आशा, विश्वास और प्रेम में सुदृढ़ करने के लिए कार्य करते हैं। युद्ध प्रभावित गाजा पट्टी के तीर्थयात्रियों का अभिवादन करते हुए संत पापा ने पुर्ननिर्माण के वृहत कार्य के लिए अपनी सहानुभूति और प्रार्थनाओं का आश्वासन दिया। संत पापा ने कहा ईश्वर की योजना में बेथलेहेम वह जगह है जहाँ समय पूरा होने पर ईश्वर मानव बने ताकि पाप और मृत्यु के शासन को समाप्त कर सकें और निराशा से शोषित विश्व में भरपूर जीवन लायें। बेथलेहेम पुनःजन्म, नवीनीकरण, प्रकाश और स्वतंत्रता के आनन्दपूर्ण संदेश से जुड़ा है तथापि शांति, सुरक्षा, न्याय और सम्पूर्णता वाला राज्य कितना दूर प्रतीत होता है। उन्होंने कहा बेथलेहेम हमारा आह्वान करता है कि मानवीय संबंधों को कमजोर करनेवाली, विभाजन लाने और एकता को दूर करनेवाली नफरत, स्वार्थ, भय और बदला की भावना पर ईश्वरीय प्रेम की जीत की साक्षी बनें। होली लैंड के विश्वासी भाई बहनें सार्वभौमिक कलीसिया की प्रार्थना और सहयोग के ठोस कार्यों पर आस्था रखें, अपनी उपस्थिति को मजबूत कर नयी संभावनाएँ अर्पित करें। वार्ता और रचनात्मक सहयोग के पुल बनें जो शांति की संस्कृति का निर्माण करे और भय, निराशा और आक्रमकता को दूर करे। स्थानीय कलीसिया का निर्माण कर इसे संवाद, सहिष्णुता, आशा, सह्दयता और व्यवहारिक उदारता की कार्य़शाला बनायें। संत पापा ने कहा कि न केवल आर्थिक और सामुदायिक नवीन संरचनाओं की जरुरत है बल्कि इससे कहीं अधिक मह्त्वपूर्ण है नवीन आध्यात्मिक संरचना जो शिक्षा, विकास और सामान्य हित के प्रसार के लिए सदइच्छावाली सब ताकतों को संघटित करे।








All the contents on this site are copyrighted ©.